Lyrics

बालम से मिलन होगा शर्माने के दिन आए मारेंगे नजर सैयाँ मर जाने के दिन आए बालम से मिलन होगा शर्माने के दिन आए मारेंगे नजर सैयाँ मर जाने के दिन आए बाबुल का मोरे आँगन बिसरा छूटी रे मोरी सखियाँ नीर बहाए घूँघट में मोरी लाज की मारी अखियाँ मोरी लाज की मारी अखियाँ बचपन के वो दिन गुइयाँ याद आने के दिन आए, हो बालम से मिलन होगा शर्माने के दिन आए प्रिय संग मोरे नैन मिलेंगे धड़क-से, मोरी छतिया मन-ही-मन में डोल लूँगी मैं तो प्रीत की सुनके बतियाँ मैं तो प्रीत की सुनके बतियाँ थामेंगे सजन बैयाँ बलखाने के दिन आए, हो बालम से मिलन होगा शर्माने के दिन आए मारेंगे नजर सैयाँ मर जाने के दिन आए
Writer(s): Shakeel Badayuni, Ravi Shankar Lyrics powered by www.musixmatch.com
instagramPath